नई दिल्ली, 17 सितंबर (आईएएनएस)। केंद्र सरकार ने देश में झूठ और नफरत फैलाने वाले 7819 वेबसाइट लिंक और सोशल मीडिया अकाउंट्स के खिलाफ कार्रवाई की है। लोकसभा में उठाए गए एक सवाल के जवाब में, केंद्र सरकार ने पिछले तीन वर्षों में अवरुद्ध खातों के बारे में जानकारी दी है।

दरअसल, कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह ने सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री से पूछा था कि फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म समाज में हिंसा और नफरत को बढ़ावा दे रहे हैं, पिछले तीन सालों में ऐसे सोशल मीडिया अकाउंट्स के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है? इस प्रश्न के लिखित उत्तर में, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री संजय धोत्रे ने कहा कि इंटरनेट के बढ़ते उपयोग के साथ, सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर हिंसा भड़काने की रिपोर्टिंग में वृद्धि हुई है। इसके कारण कार्रवाई भी तेज कर दी है।

मंत्री ने बताया कि आईटी एक्ट -000 की धारा 69 ए के दायरे में एक प्रणाली मौजूद है। अधिनियम की धारा 69 ए सरकार को देश की संप्रभुता, राष्ट्र की सुरक्षा, विदेशी राष्ट्रों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों से संबंधित किसी भी अपराध के लिए उकसाने से रोकने के लिए संबंधित जानकारी को अवरुद्ध करने का अधिकार देती है।

उन्होंने कहा कि पिछले तीन सालों में कई वेबसाइट, वेबपेज और सोशल मीडिया अकाउंट ब्लॉक किए गए। केंद्रीय राज्य मंत्री ने बताया कि 2017 में 1385 वेबसाइट, 2018 में 2799 और 2019 में 3635 वेबसाइट, वेबपेज और सोशल मीडिया अकाउंट बंद कर दिए गए। इस प्रकार, पिछले तीन वर्षों में 7819 अकाउंट और वेबसाइट लिंक के खिलाफ कार्रवाई की गई।

ईएनएम / एसजीके

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।