इंदौर शहर के क्षेत्र क्रमांक 3 के विधायक आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) के बल्लाकांड के बाद उनकी गिरफ़्तारी कर ली गई थी। जिसमे उनकी जमानत को नामंजूर कर दिया गया था। इसके बाद शनिवार 29 जून को उन्हें भोपाल से जमानत मिल गई थी। जमानत मिलने तक आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) को तकरीबन 85 घंटे तक जेल में ही रहना पड़ा था। गंजी कंपाउंड के जिस मकान को लेकर आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) ने निगम अधिकारी पर बल्ला चलाया था, उस मकान को आज यानी मंगलवार 2 जुलाई को तोड़ने की कवायद की जाएगी।

इंदौर में कैलाश

इस बात की जानकारी जनप्रतिनिधि आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) को नहीं दी गई। रविवार सुबह जेल से वापस आने के बाद आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) सोमवार की दोपहर अपने पिता यानी भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) के साथ गेंदेश्वर महादेव मंदिर (Gandeshwar mahadev Temple) पहुंचे। यहां कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने पूजा-अर्चना की। इसके बाद कैलाश ने अपने बेटे आकाश के साथ भजन कार्यक्रम में भी हिस्सा लिया। आकाश ने भजन गए और उनके पिता कैलाश ने उनका बखूबी साथ दिया। दोनों के भजनों ने ऐसा समा बांधा कि हर कोई मंत्रमुग्ध हो गया और अपनी हर परेशानी भूल गया।

आकाश का विडियो जारी

उसके बाद आकाश को जैसे ही मीडिया से यह खबर लगी कि गंजी कंपाउंड के मकान को अगले दिन यानी मंगलवार को तोडा जाएगा, तो उन्होंने अपना एक विडियो जारी किया। इस विडियो के माध्यम से आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) ने मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) को खुली चुनौती दे डाली। इससे पहले भी आकाश सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) पर आरोप लगा चुके हैं। इस विडियो में आकाश ने कहा कि उन्हें मकान तोड़ने के बारे में अभी तक कोई भी जानकारी नहीं दी गई है। जबकि जनप्रतिधि होने के नाते उन्हें जानकारी दी जानी चाहिए थी।

राजनीति से आकाश का त्यागपत्र

Akash Vijayvargiya

आगे उन्होंने कहा कि जब वे जेल में थे तब उन्हें जानकारी मिली थी कि सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) ने कहा है कि वे अपने खिलाफ सीबीआई जांच (CBI inquiry) के लिए तैयार हैं। इस पर आकाश ने कहा कि मैं सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) को ये चैलेंच करना चाहता हूँ कि यदि उनमे दम है तो वे केंद्र सरकार को पत्र लिखकर अपने खिलाफ सीबीआई जाँच करवाएं। यदि इस जांच में वे निर्दोष साबित होते हैं तो मैं राजनीति से त्यागपत्र दे दूंगा और जैसा सज्जन सिंह कहेंगे वैसा करूंगा।

सज्जन सिंह पर आरोप

Sajjan Singh Verma

इसके बाद आकाश (Akash Vijayvargiya) ने कहा कि सज्जन सिंह ने पहले भी निगम अधिकारी और कमिश्नर से सांठ-गांठ कर एक मकान की फर्जी रजिस्ट्री करवा ली थी। इसके बाद अपने फायदे के लिए उस मकान को तोड़ दिया गया था। आकाश ने सज्जन सिंह वर्मा (Sajjan Singh Verma) और उनके परिवार पर निगम से मिलीभगत कर मकान हड़पने का आरोप लगाया है। आकाश के इस विडियो के बाद राजनीति में एक नया भूचाल आने की संभावना है। आकाश ने कहा कि सज्जन सिंह (Sajjan Singh Verma) के खिलाफ उनके पास पुख्ता सबूत हैं जो वे सीबीआई को और प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) को सोंपेंगे। इतना ही नहीं उन्होंने मीडिया से भी अनुरोध किया है कि वे भी गरीब और असहाय लोगों की मदद के लिए आगे आएं। आकाश सारे सबूत मीडिया को सोंपने के लिए भी तैयार हैं। अब देखना यह है कि आकाश के इस विडियो के बाद कांग्रेस (Congress) की तरह से क्या प्रतिक्रिया आती है।

कैलाश ने बताया कच्चा खिलाड़ी

इससे पहले इंदौर पहुंचे आकाश के पिता और भाजपा महासचिव कैलाश (Kailash Vijayvargiya) ने आकाश और निगम अधिकारी दोनों को ही कच्चा खिलाड़ी बताया। उन्होंने कहा कि मैं आकाश के इस कार्य की निंदा करता हूँ और किसी भी जनप्रतिनिधि को इस तरह का कार्य नहीं करना चाहिए। उन्होंने नगर निगम की गलती बताई और कहा कि नगर निगम अधिकारी को भी अपना अहम परे रख जनप्रतिनिधि की बात सुनना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा होता तो इस बात को टाला जा सकता था। उन्होंने कहा कि ऐसी घटना दोबारा न हो इसका ध्यान सभी को रखना होगा। ऐसे कार्यों से इंदौर शहर का नाम पूरे देश में ख़राब होता है।

नियम की नहीं जानकारी

Kamal Nath

कैलाश (Kailash Vijayvargiya) ने लोगों को राहत देते हुए यह भी कहा कि मानसून के दौरान किसी भी मकान या दुकान को तोड़ा नहीं जा सकता ऐसा प्रावधान है। यदि तोड़ने की नौबत आती है तो नगर निगम को मकान में रहने वाले नागरिकों के लिए रहने की वैकल्पिक व्यवस्था करनी अनिवार्य होती है। यह सर्कुलर प्रशासन की तरफ से जारी किया जाता है जो कि इस मामले में जारी नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) और निगम अधिकारी नए हैं इसी वजह से उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि वे मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) को पत्र लिख कर इस नियम से अवगत कराएंगे।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *