देश में फिलहाल लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व यानी कि लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) चल रहा है। इस दौरान मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से भाजपा सांसद ने एक बेहद ही गजब की मिसाल पेश की है। देश में जहां कई नेता सरकारी आवास खाली करने में आनाकानी करते हैं, या फिर उसे उजाड़ कर खाली करते हैं। ऐसे में भोपाल से मौजूदा भाजपा सांसद ‘आलोक संजर’ (Alok Sanjar) ने एक अलग ही मिसाल पेश की है। दरअसल इस बार भोपाल लोकसभा सीट से साध्वी प्रज्ञा को भारतीय जनता पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है। अलोक संजर को इस बार पार्टी ने टिकट नहीं दिया। टिकट काटे जाने के बाद अलोक ने सरकारी आवास खाली कर दिया है।

पेश की मिसाल

Alok Sanjar

जैसा की हमेशा देखने और सुनने को मिला है कि कई नेता चुनाव हार जाने के बाद भी सरकारी आवास को खाली नहीं करते। कई बार उन्हें नोटिस दिए जाते हैं इसके बाद भी वे सरकारी बंगले पर अपना कब्ज़ा जमाए रहते हैं। एक तरफ अलोक संजर हैं जिन्हें लोकसभा चुनाव में टिकट न मिलने के बाद उन्हें सरकारी बंगले को खाली कर दिया। हालांकि इस खबर को इतनी प्राथमिकता नहीं दी गई। जबकि यह अपने आप में एक बेहद बड़ी मिसाल है। फिलहाल अलोक संजर सरकारी आवास को खाली कर अपने निजी आवास पहुंच गए हैं। साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में अलोक भोपाल सीट से चुनाव जीते थे। चुनाव में जीत हासिल करने के बाद उन्हें स्वामी दयानंद नगर में सरकारी बंगला बी-19 मुहैया करवाया गया था।

खाली किया सरकारी आवास

इस बार के लोकसभा चुनाव के लिए साध्वी प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) को प्रत्याशी बनाया गया है। अलोक का टिकट काटे जाने के बाद रविवार को उन्होंने सरकारी आवास खाली कर दिया। अब अलोक अरेरा कॉलोनी के अपने निजी घर में पहुंच गए हैं। चुनाव से पहले ही सरकारी बंगला खाली कर उन्होंने सभी के लिए एक मिसाल पेश की है। आलोक संजर सोलहवीं लोकसभा के सांसद हैं। उन्होंने साल 2014 में भारतीय जनता पार्टी की टिकट पर भोपाल लोकसभा सीट से जीत हासिल की थी।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *