डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। विवादित ढांचा ढहाए जाने के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत 30 सितंबर को अयोध्या में अपना फैसला देगी। फैसले के समय सभी आरोपियों को अदालत में उपस्थित होना होगा। 6 दिसंबर 1992 को विध्वंस के संबंध में राम जन्मभूमि पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इस मामले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत 49 लोग आरोपी थे। इनमें बाला साहेब ठाकरे, अशोक सिंघल, गिरिराज किशोर, विष्णुहरि डालमिया सहित 17 आरोपी मारे गए हैं। आपको बता दें कि 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में, 27 दिसंबर 1992 को कारसेवकों ने बाबरी ढांचे को ध्वस्त कर दिया था।

बुधवार को सीबीआई के विशेष न्यायाधीश सुरेंद्र कुमार यादव ने अयोध्या मामले में फैसला सुनाने की तारीख तय की। इस महीने की शुरुआत में, 2 सितंबर को, विशेष न्यायाधीश एसके यादव ने सभी 32 अभियुक्तों के बयान दर्ज करके मामले की सभी कार्यवाही पूरी कर ली थी। बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती सहित 32 आरोपियों में से 25 का प्रतिनिधित्व कर रहे अधिवक्ता केके मिश्रा ने फैसला सुनाने के लिए अदालत की नियत तारीख की पुष्टि की। सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई कोर्ट को 30 सितंबर तक मामले में अपना फैसला देने का निर्देश दिया था।

मृत रेखा के बावजूद लंबा खींचा गया मामला
सुप्रीम कोर्ट द्वारा बीजेपी के वरिष्ठ राजनेताओं के संवेदनशील मामले को समय सीमा तक पूरा करने के बावजूद मामले को लंबे समय तक खींचा गया। 19 अप्रैल, 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने स्पेशल जज को आदेश दिया कि दो दिन की सुनवाई करके केस को दो साल में खत्म कर दिया जाए। पिछले साल जुलाई में, SC ने अयोध्या मामले में आपराधिक मुकदमा पूरा करने की समय सीमा छह महीने बढ़ा दी और अंतिम आदेश के लिए कुल नौ महीने का समय दिया। इस वर्ष 19 अप्रैल को समय सीमा समाप्त हो गई थी और 31 अगस्त की समय सीमा निर्धारित की गई थी, जो कि समाप्त हो गई है।

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में आरोपी
लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, सुधीर कक्कड़, सतीश प्रधान, राम चंद्र खत्री, संतोष दुबे और ओम प्रकाश पांडे, कल्याण सिंह, उमा भारती, राम विलास वेदांती, विनय कटियार, प्रकाश शर्मा, गांधी यादव, जय भान सिंह, लल्लू सिंह कमलेश त्रिपाठी, बृज भूषण सिंह, रामजी गुप्ता, महंत नृत्य गोपाल दास, चंपत राय, साक्षी महाराज, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, धर्मदास, जय भगवान गोयल, अमरनाथ गोयल, साध्वी ऋतंभरा, पवन पांडे, विजय बहादुर, विजय बहादुर और धर्मेंद्र सिंह गुर्जर।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।