Commando For Railway Security

भारतीय रेलवे में बहुत सी अहम विशेषताओं की कमी है जैसे टेक्निकल एडवांसमेंट, ट्रेन की स्पीड, और सबसे जरुरी यात्रियों की सुरक्षा। यह सभी मुद्दे भारतीय रेलवे के लिए अतिआवश्यक और चिंताजनक है क्योकि बढती आबादी और तकनीक के साथ-साथ रेलवे वव्यस्था को भी बदलना पड़ेगा। इन्ही बातों को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेल मंत्री पियूष गोयल (Piyush Goyal, Minister Of Indian Railway) ने रेल सुरक्षा को लेकर बहुत बड़ा फैसला लिया है।

भारतीय रेल कितनी भी तेज़ और एडवांस हो जाये, अगर वो सुरक्षित नहीं है तो लोग उसमे यात्रा करने से कतरायेंगे। मौजूदा स्थिति में अगर रेलवे सुरक्षा की बात की जाये तो सिर्फ एक ही नाम सामने आता है आर.पी.एफ (RPF, Railway Protection Force)। वर्त्तमान में आर.पी.एफ का काम है कि वह रेलवे स्टेशन और ट्रेन के अंदर कानून का उलंघन करने वालो पर कारवाई करे और साथ ही यात्रियों की सुरक्षा करे। आर.पी.एफ के जवान यात्रियों को केवल मध्यम वर्ग की सुरक्षा दे सकते है क्योकि आर.पी.एफ जवानो के पास हथियार नहीं है। आतंकी हमले में आर.पी.एफ के जवान पूर्ण रूप से यात्रियों की सुरक्षा नहीं कर पाते है। इसी बात को मद्देनजर रखते हुए रेल मंत्री पियूष गोयल ने रेलवे के लिए एक नई फ़ोर्स तैनात करने का फैसला किया है। इस फ़ोर्स का नाम कोरस (CORAS, Commondo For Railway Security) रखा गया है।

कोरस के जवानो का सिर्फ एक ही लक्ष्य रहेगा, यात्रियों को आतंकी हमले, नक्सली हमले, या किसी भी प्रकार के हमले से बचाना। आइये आपको आपको कोरस फ़ोर्स की अन्य विशेषताएं बताते है…

Image

कैसी होगी CORAS Force ?

कोरस फ़ोर्स को यूनियन मिनिस्ट्री ऑफ़ रेलवे संचालित करेगी। आर.पी.एफ और आर.पी.एस.एफ के मुख्य जवान ही कोरस फ़ोर्स में शामिल किए जायेंगे। कोरस फ़ोर्स के जवानो को एसी कड़ी ट्रेनिंग दी जाएगी जिसमें जवान आतंकी हमले, नक्सली हमले, या किसी भी प्रकार के हमले का आसानी से जवाब दे सके। कोरस फ़ोर्स को ख़ास जगहों पर ही तेनात किया जाएग जैसे तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, और मध्य प्रदेश। जरुरत पढने पर कोरस फ़ोर्स देश के किसी भी कोने में जा सकती है।

Image

इसी के साथ जब जम्मू कश्मीर में रेलवे नेटवर्क बनाया जायेगा तब कोरस फ़ोर्स को वहा ख़ास तोर पर तेनत किया जाएगा। आपको बता दे की कोरस फ़ोर्स में तेनात जवानो की उम्र 35 साल तक ही रहेगी। यानी अधिकतम जवान युवक होंगे। इसी के साथ सभी जवानो को बुलेट प्रूफ जेकेट और खतरनाक हथियार दिए जायेंगे।

जाहिर है कि कोरस फ़ोर्स के आ जाने से रेल का सफ़र और सुरक्षित हो जायेगा। और साथ ही कोरस फ़ोर्स के डर से छोटी-मोटी चोरी और डकेतियो पर भी लगाम लगेगा।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *