लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के लिए दूसरे चरण का मतदान भी संपन्न हो चुका है। ऐसे में राजनीतिक गलियारों में बयानबाजी का दौर और भी तेज हो गया है। सभी राजनीतिक दलों के नेता या तो जनता को साधने के लिए या फिर अपने विपक्षियों पर वार करने के लिए बयानबाजी कर रहे है। हालांकि इस बार चुनाव आयोग (Election commission) भी बेहद सख्ती से पेश आ रहा है। आचार संहिता के उल्लंघन मामले में जहां उत्तरप्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) और बसपा सुप्रीमों मायावती (Mayawati) पर आयोग ने बेन लगा दिया था। वहीं आयोग ने मेनका गांधी (Maneka Gandhi) और आजम खान (Aajam Khan) पर भी प्रतिबन्ध लगाया था।

प्रज्ञा को नोटिस

Pragya Thakur

चुनाव की सख्ती के बाद भी बयानबाजी का यह दौर थमने का नाम नहीं ले रहा। अब मध्यप्रदेश की भोपाल सीट से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) के खिलाफ चुनाव आयोग ने नोटिस निकाला है। प्रज्ञा के दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) को लेकर दिए गए बयानों पर चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है। वहीं दिग्विजय सिंह ने भी नामांकन दाखिल करने के बाद एक विवादित बयान (Disputed statement) दे डाला है। प्रज्ञा के बयान से जहां राजनीतिक गलियारों में हंगामा खड़ा हो गया था। वहीं अब दिग्गी राजा के हिन्दुव वाले बयान ने एक नया बखेड़ा कर दिया है। प्रज्ञा ने जहां दिग्विजय की तुलना राक्षसों से की थी। वहीं दिग्विजय ने कहा कि मेरी डिक्शनरी में हिंदुत्व जैसा कोई शब्द नहीं है।

भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बड़ा बयान

दिग्गी का विवादित बयान

Digvijay Singh

दिग्विजय ने यह बात नामांकन दाखिल करने के बाद कही। दरअसल नामांकन दाखिल करने के बाद जब दिग्विजय सिंह पत्रकारों से रूबरू हुए तब उन्होंने कहा, “’हिंदुत्‍व शब्‍द मेरी डिक्शनरी में ही नहीं है। आप लोग हिंदुत्‍व शब्‍द का उपयोग क्‍यों करते हैं?” दिग्विजय ने आगे कहा कि, जिस समय हिन्दू आतंकवाद की बात सामने आई थी उस समय आर के सिंह गृह सचिव के पद पर थे। हिन्दू आतंकवाद की बात पहली बार आर के सिंह ने की थी। फिर ऐसे में भाजपा (BJP) ने उन्हें पार्टी में लेकर मंत्री पद क्यों दिया?

ट्विटर पर दी सफाई

हालांकि दिग्विजय सिंह को अहसास हो गया कि उन्होंने एक नए फसाद को जन्म दे डाला है। इसी वजह से उन्होंने अपने ब्यान पर जल्द ही सफाई पेश कर डाली। उन्होंने अपने ट्वीटर अकाउंट पर एक ट्वीट कर लिखा, “’मैं हिंदू धर्म को मानता हूं, जो हज़ारों सालों से दुनिया को जीने की राह सिखाता आया है। मैं अपने धर्म को हिंदुत्व के हवाले कभी नहीं करूंगा, जो केवल और केवल राजनीतिक सत्ता पाने के लिए संघ का षड्यन्त्र है। मुझे अपने सनातन हिंदू धर्म पर गर्व है जो वसुदैव क़ुटुम्बकम की बात कहता है।”

उमा भारती : दिग्विजय सिंह पिटे हुए नेता है

नया हंगामा

इससे पहले दिग्विजय सिंह ने कहा था कि वे प्रज्ञा के बयान का कोई जवाब नहीं देंगे। उन्होंने कहा था कि वे भाजपा के किसी भी बयान का जवाब नहीं देंगे, लेकिन नामांकन भरते ही उन्होंने एक नया विवादित बयान दे डाला।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *