डीएसपी को मारी गोली

पुरानी कहावत है कि जर, जोरू और जमीन सारे रिश्ते नाते ख़त्म कर फसाद की जड़ बनती है। ऐसा ही एक मामला मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) से सामने आया है। भोपाल में पुलिस मुख्यालय (PHQ) में तैनात डीएसपी को उसके ही जान-पहचान वाले ने घर में घुस कर गोली मार दी। मामला पारिवारिक विवाद का था। मामला प्रॉपर्टी से जुड़ा बताया जा रहा है। शुरूआती जांच में सामने आया है कि बुधवार शाम तकरीबन साढ़े 7 बजे डीएसपी गोरेलाल अहिरवार (DSP Gorelal Ahirwar) को उसके परिचित ने उन्ही के घर में घुस कर गोली मार दी।

इलाज के दौरान मौत

अहिरवार को गंभीर अवस्था में नर्मदा अस्पताल में दाखिल किया गया। उपचार के दौरान डीएसपी अहिरवार की मौत हो गई। वहीँ घटना के बाद से आरोपी युवक हिमांशु प्रताप सिंह (Himanshu Pratap Singh) फरार बताया जा रहा है। हिमांशु की मां सायबर सेल (Cyber Cell) में हवालदार के पद पर कार्यरत है। डीएसपी अहिरवार अवधपुरी में ए-196 में निवासरत थे। उनकी उम्र 60 वर्ष थी। फिलहाल हत्या के पीछे का कारण सामने नहीं आया है। जैसे ही पुलिस प्रशासन को घटना की जानकारी मिली, तो पूरे महकमे में हडकंप मच गया।

तमाम अधिकारी पहुंचे अस्पताल

भोपाल मुख्यालय के आईजी, डीआईजी और एसपी समेत तमाम आला अधिकारी तत्काल ही अस्पताल पहुंचे। फिलहाल परिजन से इतना ही पता चला कि शाम के वक़्त हिमांशु उनके घर आया था। किसी बात को लेकर अहिरवार और हिमाशु में विवाद हो गया। इसके बाद हिमांशु जाने के लिए गेट की तरफ बढ़ा। अचानक उसने पलट कर गोरेलाल अहिरवार पर गोली चला दी। गोली सीधा डीएसपी के पेट में लगी। गोली मार कर हिमाशु मौके से फरार हो गया। परिजन गंभीर अवस्था में डीएसपी अहिरवार को अरेरा कोलोनी स्थित नर्मदा हॉस्पिटल लेकर पहुंचे। इलाज के दौरान अहिरवार ने दम तोड़ दिया।

हत्यारे की तलाश

आईजी जयदीप प्रसाद (IG Jaideep Prasad) का कहना है कि आरोपी हिमांशु की गिरफ्तारी के आदेश दे दिए गए हैं। आरोपी हिमांशु की तलाश जारी है। पुलिस आरोपी की तलाश में जगह-जगह छापा मार रही है। जल्द ही आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ जाएगा। परिजन के बयान के बाद ही मामला पूरी तरह स्पष्ट हो पाएगा। राजधानी भोपाल में 24 घंटे के भीतर यह दूसरी हत्या है। भोपाल में कानून व्यवस्था को लेकर अब तमाम सवाल उठने लगे हैं। राजधानी में जब रक्षक खुद ही बेबस और लाचार है तो भला आम नागरिक कैसे सुरक्षित रहेगा। दो हत्याओं के बाद पुलिस प्रशासन और कानून व्यवस्था पर एक सवालिया निशान लग गया है।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *