मध्यप्रदेश के इंदौर (Indore) शहर में आए दिन गोरखधंधों का पर्दाफाश होते रहता है। इसी क्रम में इंदौर शहर के हीरा नगर थाना (Hira Nagar Police Station) क्षेत्र में 25 जून मंगलवार के दिन एक और देह व्यापार (Sex Racket In Indore) के धंधे का पर्दाफाश हुआ। हीरा नगर थाना क्षेत्र में पुलिस ने कारवाई कर इस गोरखधंधे का पर्दाफाश किया। इस कार्रवाई में सेक्स रैकेट चलने वाली संचालिका समेत 5 महिलओं को और 4 युवकों को गिरफ्तार किया गया है।

दरअसल मुखबिर से सूचना मिलने पर हीरा नगर थाना प्रभारी राजवीर सिंह भदौरिया (Rajveer Singh Bhadauriya) की अगुवाई में पुलिस दल ने प्राइम सिटी कॉलोनी (Prime City Colony) स्थित एक किराए के मकान में दबिश देकर देह व्यापार में लिप्त महिलाओं और युवकों को गिरफ्तार कर लिया। मिली जानकारी के अनुसार इस किराए के मकान में पिछले 2 माह से देह व्यापार संचालित किया जा रहा था। इस सेक्स रैकेट (Sex Racket In Indore) का संचालन घर किराए से लेने वाली महिला कर रही थी। वहीं इस धंधे में जो महिलाएं लिप्त थीं वे सभी स्थानीय बताईं जा रही हैं। आर्थिक तंगी से परेशान होकर महिलाएं इस धंधे में लिप्त हो गईं।

इस पूरे मामले में एएसपी प्रशांत चौबे (ASP Prashant Chaubey) का कहना है कि, पुलिस को बापट चौराहे स्थित शिकायत पेटी में इस बात की सूचना मिली थी। इस सूचना में अज्ञात मुखबिर द्वारा जानकारी दी गई थी कि प्राइम सिटी कॉलोनी में एक महिला देह व्यापार (Sex Racket In Indore) संचालित कर रही है। सूचना के आधार पर हीरा नगर थाने की एसआई सुमन तिवारी (ASI Suman Tiwari) में अपनी एक टीम को बताए गए ठिकाने पर भेजा। पुलिस दल को मकान नंबर 64 में देह व्यापार संचालित होता मिला। जब सभी आरोपियों को पुलिस ने पकड़ा तब खुलासा हुआ कि इस धंधे का संचालन एक 37 वर्षीय महिला कर रही थी।

इस पूरे मामले में जवाहर मार्ग निवासी संजय रायकवार, परदेशीपुरा निवासी अंकित वाडिया, प्राइम सिटी निवासी नंदकिशोर करोरिया और प्रिंस सिटी निवासी प्रिंस कुमार सिंह और अन्य को हिरासत में लिया गया है। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपियों के पास से पुलिस को 24 हजार रुपए नकद और अन्य सामग्री भी बरामद हुई। पुलिस ने बताया कि रैकेट चलाने वाली महिला अपनी बेटी और दामाद की सहायता से एक वाट्सएप ग्रुप भी संचालित करती थी।

पुलिस ने जानकारी में बताया कि इसी वाट्सएप ग्रुप (Whatsapp Group) पर ग्राहकों को युवतियों और महिलाओं की तस्वीर भेजी जाती थी। इस धंधे में शामिल सभी महिलाएं स्थानीय हैं और वे सभी देह व्यापर (Sex Racket In Indore) संचालित करने वाली महिला के संपर्क में रहती थीं। जब महिला उन्हें फ़ोन करती थी तब वे फ़्लैट पर पहुंच जाती थीं। चूंकि यह गोरखधंधा थाने के ठीक पास चल रहा था ऐसे में यह सवाल होना लाजमी है कि क्या पुलिस के संरक्षण में यह धंधा संचालित किया जा रहा था? अगर इसमें पुलिस की कोई मिलीभगत नहीं है तो फिर पुलिस को अब तक इस बात की भनक कैसे नहीं लगी?

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *