BJP को सरकार बनाने का न्योता

कल यानी 9 नवंबर का दिन भारत देश के लिए एतिहासिक दिन रहा। 9 नवंबर की तारीख इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गई। पिछले 70 सालों से चल रहे राम जन्म भूमि विवाद (Ayodhya Case) का अंत आखिर 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले के साथ हो गया। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में एतिहासिक फैसला देते हुए राम मंदिर निर्माण की घोषणा की। और साथ ही मुस्लिम समाज को भी अयोध्या में मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन भी प्रदान की। 9 नवंबर के दिन ही पाकिस्तान स्थित करतारपुर साहिब दरबार के लिए कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) का भी उद्घाटन समारोह आयोजित किया गया। इस दोहरी ख़ुशी के मौके पर ही महाराष्ट्र के राज्‍यपाल भगत सिंह कोशियारी (Bhagat Singh Koshyari) ने प्रदेश के सबसे बड़े दल भारतीय जनता पार्टी को सरकार बनाने का न्योता दिया है।

11 नवंबर तक साबित करना होगा बहुमत

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (Bhagat Singh Koshyari) ने कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) से कहा कि अगर वे प्रदेश में सरकार बनाना चाहते हैं तो उन्हें सोमवार 11 नवंबर की रात्रि 8 बजे तक सदन में बहुमत साबित करना होगा। गौरतलब है कि देवेन्द्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने 8 नवंबर शुक्रवार को राजभवन में राज्यपाल को अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया था। महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को वोट डाले गए थे। इसके बाद चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को आए थे। चुनाव नतीजों में 288 विधानसभा सीटों वाले महाराष्ट्र में 105 सीटें जीतकर भाजपा (BJP) सबसे बड़े दल के रूप में सामने आई थी। वहीं शिवसेना (Shiv Sena) को 56, एनसीपी (NCP) को 54 और कांग्रेस (Congress) को 44 सीटें मिली थी। बाकी 29 सीटें अन्य के खाते में गईं थी।

 

भाजपा-शिवसेना की खीचतान जारी

विधानसभा चुनाव परिणाम आने के बाद से ही शिवसेना (Shiv Sena) और भाजपा (BJP) में मुख्यमंत्री पद को लेकर खीचतान शुरू हो गई। इस चुनाव में भाजपा (BJP) और शिवसेना ने साथ में चुनाव लड़ा और बहुमत से ज्यादा सीटें भी जीती। लेकिन दोनों के बीच मन-मुटाव के चलते अभी तक प्रदेश में नई सरकार का गठन नहीं हो सका। अभी तक दोनों दलों के बीच सहमति नहीं बन सकी है। बता दें कि बहुमत साबित करने के लिए 145 सीटें चाहिए। अगर भाजपा और शिवसेना साथ आती हैं तो दोनों के गठबंधन को बहुमत से अधिक सीटें प्राप्त हो जाएगी। राज्यपाल सबसे बड़े दल को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करता है। इस लिहाज से महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (Bhagat Singh Koshyari) ने बीजेपी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है।

 

भाजपा कोर कमेटी की बैठक

राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (Bhagat Singh Koshyari) के आमंत्रण को अगर भाजपा (BJP) अस्वीकार कर देती है और सरकार बनाने से इंकार करती है, तब राज्यपाल प्रदेश की दूसरी बड़ी पार्टी शिवसेना (Shiv Sena) को सरकार बनाने का न्योता देंगे। राज्यपाल से न्योता मिलने के बाद आज यानी रविवार 10 नवंबर को भाजपा प्रदेश कोर कमेटी की बैठक करेगी। इस बैठक में आगे की कार्रवाई पर चर्चा की जाएगी। वहीं शिवसेना के नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने राज्यपाल के इस कदम की तारीफ करते हुए कहा कि, यह निर्धारित प्रक्रिया के अनुरूप फैसला है। भाजपा प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी है इसलिए उसे सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए।

NCP नेता की अपील

राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (Bhagat Singh Koshyari) से भाजपा (BJP) को न्योता मिलने के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने कहा कि राज्यपाल को पहले यह जरूर सुनिश्चित करना चाहिए कि क्या भारतीय जनता पार्टी के पास बहुमत है? अगर उनके पास बहुमत नहीं है तो फिर विधायकों की खरीद-फरोख्त शुरू हो जाएगी। इसके अलावा मलिक ने कहा कि यदि बीजेपी बहुमत साबित कर भी देती है तो भी हम सदन में उसे रोकने के लिए उसके खिलाफ वोट करेंगे।

वैकल्पिक सरकार बनाने का प्रयास

इतना ही नहीं मलिक (Nawab Malik) का कहना है कि हम यह भी देखेंगे कि शिवसेना (Shiv Sena) भाजपा (BJP) सरकार को गिराने के लिए वोट करती है या नहीं। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा सरकार नहीं बनती तो राज्य के हित में हम वैकल्पिक सरकार बनाने का प्रयास करेंगे। नवाब मलिक ने कहा कि हमने 12 नवंबर मंगलवार को अपनी पार्टी के समस्त विधायकों की एक बैठक बुलाई है। इस बैठक में शरद पवार (Sharad Pawar) भी शामिल होंगे। इस बैठक में वैकल्पिक सरकार बनाने पर चर्चा की जाएगी।

 

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *