प्रथ्वी का इतिहास..

धरती के काल चक्र को किस प्रकार बाटा गया है ? हमारी प्रथ्वी जिस पर हम रहते है, इसे और हमने अपने भ्रमांड को अभी-अभी समझना शुरू किया है। पहली बार हमने ब्लैक होल की तस्वीरे भी ली है। और कई प्रकाश वर्ष दूर ग्रहों की हम जानकारी रखने लगे है। और लाखो गैलेक्सी को आज हमने खोज भी लिया है। पर हम आज भी अपने गृह यानी प्रथ्वी के बारे में बहुत कुछ नहीं जानते। जैसे समुन्द्र के सबसे गहरे तल में क्या है ? कोनसे जीव वहा रहते है ? हम यह भी नहीं जानते की पिरामिडो का निर्माण किस प्रकार हुआ और वो क्यों बनाये गए। हम यह भी नहीं जानते की किस विधि का प्रयोग करके अजंता का कैलाश मंदिर बनाया गया था।

हम आज भी यह नहीं जानते की क्यों पुराणी विकसित सभ्यता जैसे मोहन जोदड़ो, हड़प्पा, माया आदि संस्कृति कहा लुप्त हो गई। और वो और उनका विज्ञान कहा चला गया। पुरातत्व वैज्ञानिको ने खोज की और पाया की मोहन जोदड़ो संस्कृति की एटॉमिक रेडीएशन यानी परमाणु बम से नष्ट हुई थी, जिसके प्रमाण भी उन्हें मिले है। तो इतने हजारो साल पहले परमाणु बम किसने बनाया था। और उनकी तकनीक कहा गायब हो गई।

युग वर्णन

अगर धरती के इतिहास को देखा जाए तो इस धरती के समयकाल को 4 खंडो में बात गया है। जो हमारे ऋषियों द्वारा ग्रन्थ लिखे गए है उनके अनुसार धरती पर 4 युग है। और हर युग की एक निर्धारित समय की काल अवधि है। हमारी धरती का काल चक्र 4 युगों के बाद दोहराता है। वेदों के अनुसार 4182 अरब सालो के बाद भ्रमाँड में जीवन एक बार निर्माण एवं नष्ट होता है। इस काल अवधि को हम भ्रमा जी का पूरा दिन और पूरी रात को मिलाकर मानते है। भ्रमा का जीवन काल 40 ख़रब 3010 अरब वर्षो के बिच माना जाता है।

युग शब्द का प्रयोग ऋग्वेद से ही मिलता है। जैसे कल युग, द्वापर युग, सत्य युग, त्रेता युग। सत्य युग को सत युग भी कहा जाता है। युग शब्द का वर्णन इस प्रकार से किया जाता है की उस युग में किस प्रकार के व्यक्ति का जीवन, आयु, उचाई होती है। जैसे :

सत्य युग 17,28,000 साल का होता है। और मनुष्य की आयु 1 लाख साल की होती है और लम्बाई 32 से 40 फ़ीट की होती है। उसके बाद त्रेता युग की शुरुवात होती है।

त्रेता युग 12,96,000 साल का होता है, और इस युग में मनुष्य की आयु 10000 साल की होती है और लम्बाई 21 से 25 फ़ीट होती है।

द्वापर युग 8,64,000 साल का होता है, इसमें मनुष्य की आयु 1000 साल की होती थी और अंत में कल युग।

कल युग 4,32,000 साल का होता है और मनुष्य की आयु 100 साल, लम्बाई 5 से 6.5 फ़ीट होगी।

 

युग युग साल मनुष्य आयु मनुष्य उचाई
सत्य युग 17,28,000 1 लाख वर्ष 32-40 फीट
त्रेता युग 12,96,000 10,000 वर्ष 21 – 25 फीट
द्वापर युग 8,64,000 1000 वर्ष 20 फीट
कल युग 4,32,000 100 वर्ष 5 – 6.5 फीट

 

क्या यही है युग परिवर्तन ?

इस प्रकार हमारी धरती पर जीवन को 4 भागो में बाटा गया है। और हर युग की समाप्ति पर हर सभ्यता का पूर्णतः अंत हो जाता है। साथ ही उनके आविष्कार व विज्ञान या तो उनके साथ मिट जाते है या हम उसे समझ नहीं पाते। वैज्ञानिक भाषा में इसे इवोल्यूशन कहते है।

तो क्या एक दिन हमारी सभ्यता का अंत भी तय है ? क्या हम अपने आप को बचा सकेंगे ? और किस प्रकार हम अपने विज्ञान और जानकारी आगे आने वाली सभ्यता को दे सके। और हमारे पास अब कितना समय बाकी रह गया है। क्या यही कल युग की समाप्ति है व एक नया निर्माण इसे समझा जाये।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *