स्वच्छता में हैट्रिक

स्वच्छ भारत अभियान के तहत एक बार फिर इंदौर शहर ने प्रथम स्थान हासिल कर लिया। एक बार फिर यह बाजी इंदौर शहर ने मार ली। इसी के साथ इंदौर शहर ने स्वच्छता की हैट्रिक लगा ही दी। स्वच्छता आदत है, स्वच्छता त्यौहार, एक नंबर हैं हम, हैट्रिक होगा इस बार… यह गाना जिसे हम रोज सुनते हैं आज सच हो गया। हैट्रिक, हैट्रिक, हैट्रिक लगाएंगे गाने के साथ इंदौर ने हैट्रिक, जमा दी।

लगातार तीसरी बार नंबर 1

लगातार तीसरी बार स्वच्छता सर्वेक्षण में नंबर 1 आने पर शहर भर में जश्न का माहौल है। लोगों ने भी इसमें अपनी अहम भूमिका निभाई है। एक तरफ जहां भारत के जाबांज विंग कमांडर अभिनंदन की वतन वापसी से देश भर में जश्न है। वहीं इंदौर शहर को दोहरी ख़ुशी मिली। जी हां इंदौर शहर ने स्वच्छता के मामले में सभी को शहरों को पछाड़ते हुए आखिरकार हैट्रिक लगा ही दी। केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय में एक बार फिर इंदौर शहर को पहला स्थान हासिल हुआ।

औपचारिक घोषणा 6 मार्च को

हालांकि अभी इसकी औपचारिक घोषणा नहीं हुई है। वहीं इंदौर नगर निगम के एक वरिष्ठ अधिकारी से मिली जानकारी के अनुसार इंदौर शहर को एक बार फिर, स्वच्छता में नंबर एक का खिताब हासिल हुआ है। इसकी औपचारिक घोषणा 6 मार्च को की जाएगी। मध्यप्रदेश में स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। स्वच्छता को लेकर सूबे में कार्यो में काफी प्रगति देखने को मिली है।

लगातार हो रहा सफाई कार्य

वहीं इंदौर शहर के मुख्य मार्गों और बाजारों में सुबह हो या शाम, लगातार ही सफाई का कार्य किया जाता है। लोगों को भी इस तरफ जागरूक किया जा रहा है। कई कॉलोनियों में सफाई कर्मचारी डोर टू डोर जाकर कचरा एकत्र कर रहे हैं। इस मामले में नगर निगम इंदौर भी काफी सजग है और लगातार ही स्वच्छता के कार्य को अंजाम दे रहा है। बाजारों में स्वच्छता पर लगातार जोर दिया जा रहा है। दुकानों से कचरे को एकत्र करने के लिए स्वच्छता वाहन लगातार ही बाजार में घूम रहे हैं।

शहरवासियों का योगदान

लगातार 2 बार नंबर एक का खिताब हासिल करने के बाद से ही इंदौर शहर को फिर से नंबर 1 बनाने की मुहीम चल पड़ी थी। शहरवासियों ने भी अपना कर्तव्य बखूबी निभाया और इंदौर को स्वच्छ रखने में अहम भूमिका अदा की। लगातार दो बार नंबर एक स्थान पर रहने वाला इंदौर शहर, तीसरी बार भी नंबर एक के पायदान पर रहा और हैट्रिक लगाई।