इंदौर। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने कहा की हनी ट्रैप मामले (Honeytrap Case) को सरकार दबाना चाहती है क्योकि इस मामले में कई सरकारी अधिकारी और मंत्री शामिल है। हनी ट्रैप मामले में अब तक कई बड़े रसूखदार चेहरे बेनकाब हुए हैं जिन्हें सरकार के अधिकारियों और पुलिस ने मिलकर दबाने की पुरजोर कोशिश भी की। विजयवर्गीय ने हनीट्रैप मामले में सच को उजागर करने वाले पत्रकारो के परिवार पर हुई कार्यवाही को निंदनीय बताया है। कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि अगर कोई पत्रकार सच को उजागर कर रहा है तो उस पर बदले की नियत से कार्रवाई करना निंदनीय है। हम निजी मीडिया समूह के पत्रकार और उनके परिवार को प्रताड़ित किये जाने का विरोध करते है।

हनी ट्रैप कांड

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर से उजागर हुआ हनी ट्रैप कांड आज कई राज्यों को अपनी चपेट में ले चुका है। इस कांड में रोजाना नए-नए खुलासे हो रहे हैं। कई बड़े नेता, IAS और IPS अधिकारियों के नाम इस मामले में उजागर हुए हैं। SIT इस मामले की गहराई से जांच कर रही है। इस मामले में अभी और भी कई बड़े नेताओं व अधिकारियों के नाम सामने आएंगे। फिलहाल इस मामले में पुलिस के हाथ 1 हजार से भी ज्यादा वीडियो लग चुके हैं। अभी इन वीडियो का खुलासा नहीं किया गया है। वहीं इस मामले के तार बॉलीवुड से भी जुड़े हैं। इस मामले में कई बॉलीवुड अभिनेत्रियों के नाम भी सामने आए हैं।

छापामार कार्रवाई

हनी ट्रैप मामले में खुलासे करने वाले पत्रकारों और मीडिया संस्थान के मालिक के ठिकानों पर मध्यप्रदेश पुलिस और प्रशासन की टीम ने छापेमार कार्रवाई को अंजाम दिया है। हनी ट्रैप मामले में खुलासे कर रही मीडिया संस्थान के मालिक पर आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। बताया जा रहा है कि प्रशासन की यह कार्रवाई हनी ट्रैप मामले को दबाने के लिए की जा रही है।

इन्ही कार्रवाईयों के बिच पुलिस और प्रशासन की टीम ने एक मीडिया संस्थान के मालिक जीतू सोनी के विभिन्न ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की है।

यह भी पढ़े: ये नेता भी हुए थे हनी ट्रैप का शिकार

 

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।