0

समाधि लेने का संकल्प

बाबा वैराग्यानंद गिरी (Baba Vairagyanand Giri) उर्फ़ मिर्ची बाबा (Mirchi Baba) से तो सभी भली-भांति परिचित हैं। हालांकि इस लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) से पहले तक उन्हें कोई नहीं जानता था। लेकिन जब से उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) की जीत के लिए हवन किया है तब से वे सभी की नज़रों में आ गए। हालांकि उनका हवन करना तो शायद किसी को याद नहीं लेकिन उन्होंने दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) की जीत का जो दावा किया था, उस वजह से उन्हें पूरा देश जानने लगा। दावा भी ऐसा-वैसा नहीं बल्कि जिन्दा ही समाधि लेने का दावा।

जीत का दावा

Digvijaya Singh

दरअसल बाबा वैराग्यानंद गिरी (Baba Vairagyanand Giri) जो पहले पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के महामंडलेश्वर थे। उन्होंने लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के दौरान दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) की जीता का दावा करते हुए कहा था कि, इस बार लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में मध्यप्रदेश की भोपाल सीट से दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) ही जीतेंगे। अगर वे चुनाव नहीं जीते तो मैं समाधि ले लूंगा। बाबा ने उस वक्त तो बड़े जोश में कह दिया था कि दिग्विजय की हार पर वे समाधि ले लेंगे। लेकिन उनका ये दावा उनके गले की फांस बन गया। क्योंकि चुनाव में दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) को जीत तो नहीं मिली पर बाबा सबकी नज़रों में जरूर चढ़ गए।

बाबा की तलाश

हालांकि एक कहावत है कि, उसका उतना नाम हुआ है जो जितना बदनाम हुआ है। बाबा के साथ वह कहावत बिल्कुल सटीक बैठती है। भले बदनाम ही सही लेकिन नाम तो हो गया। लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) से पहले जिसका नाम तक लोग नहीं जानते थे, आज उसे देश का बच्चा-बच्चा जानने लगा। हालांकि ये अलग बात है कि सभी उनकी जान के दुश्मन बने हुए हैं। जब से दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) चुनाव हारे हैं तब से बाबा अपनी जान बचाए छुपते फिर रहे हैं। और देश की जनता उन्हें ढूंढ रही है। कुछ लोगों ने तो बाबा का नंबर तक हासिल कर लिया।

बाबा ने लिखा पत्र

Letter Of Mirchi Baba

फिर क्या, लोग लगातार बाबा को फोन करके पूछ रहे थे कि, बाबा जी चुनाव तो हो गया अब आप कब समाधि लोगे? बाबा से एक ही सवाल इतनी बार पूछा गया कि बाबा ने अपना फोन ही बंद कर दिया। लेकिन अब बाबा वैराग्यानंद गिरी (Baba Vairagyanand Giri) उर्फ मिर्ची बाबा (Mirchi Baba) ने मध्यप्रदेश सरकार से समाधि लेने की अनुमति मांगी है। दरअसल बाबा का एक पत्र सामने आया है जिसमें उन्होंने भोपाल के अधिकारियों से जल समाधि लेने की अनुमति मांगी है।

समाधि की मांगी अनुमति

मिर्ची बाबा (Mirchi Baba) ने अपने पत्र में लिखा है कि, वे इस समय कामाख्या मंदिर (Kamakhya Temple) असम में तपस्या कर रहे हैं। और उन्होंने प्रशासन से समाधि लेने की इच्छा जाहिर की है। उन्होंने पत्र में अपने संकल्प का जिक्र करते हुए लिखा है कि, वे अपने संकल्प को पूरा करना चाहते हैं। उन्होंने लिखा कि रविवार 16 जून को दोपहर 2 बजकर 11 मिनट पर समाधि लेना का निश्चय किया है। उन्होंने प्रशासन से इसमें सहायता करने की गुहार लगाई और समाधि लेने की अनुमति मांगी है। उन्होंने लिखा कि प्रशासन उनकी धार्मिक भावनाओं का सम्मान करते हुए उन्हें इस संकल्प को पूर्ण करने की अनुमति प्रदान करे।

अखाड़े ने किया बाहर

Mirchi Baba

गौरतलब है कि बाबा वैराग्यानंद गिरी (Baba Vairagyanand Giri) पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के महामंडलेश्वर थे। लेकिन लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में उन्होंने दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) की जीत के लिए 5 क्विंटल मिर्च से हवन किया था। इतना ही नहीं उन्होंने जीत का दावा भी किया था और हार जाने पर समाधि लेने का संकल्प किया था। इसके बाद विवाद गहरा गया था। निरंजनी अखाड़े ने भी बाबा के इस कार्य को गलत बताया था और उन्हें अखाड़े से बाहर कर दिया था। हालांकि अब बाबा का पत्र मिलने के बाद लोगों को प्रशासन की अनुमति का इन्तेजार है। लोग अब 16 जून का बड़ी ही बेसब्री से इन्तेजार कर रहे हैं।

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *