महाकाल मंदिर का वायरल विडियो

सोशल मीडिया (Social Media) पर आए दिन कोई न कोई विडियो वायरल (Viral Video) होता रहता है। हालांकि कई बार ऐसे विडियो सामने आते हैं जिन पर विश्वास करना बेहद ही मुश्किल होता है। कई बार तो कई विडियो देखकर हमें हमारी आँखों पर भी यकीन नहीं आता। इसे जादू या फिर चमत्कार कहा जाए तो गलत न होगा। ऐसा ही एक विडियो पिछले 3 दिनों से सोशल मीडिया पर जमकर वायरल (Mahakal Temple Viral Video) हो रहा है। इसे लोग चमत्कार बता रहे हैं।

तंत्र-मंत्र के लिए विख्यात

दरअसल यह विडियो है मध्यप्रदेश में स्थित बाबा महाकाल (Baba Mahakal) की नगरी उज्जैन (Ujjain) का। उज्जैन में बाबा महाकाल (Baba Mahakal) का मंदिर स्थित है। बाबा महाकाल (Baba Mahakal) के दर्शन करने लोग पूरे देश से ही नहीं बल्कि विदेशों से भी आते हैं। उज्जैन महाकाल मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। महाकाल मंदिर आस्था और श्रद्धा का केंद्र बिन्दु है। दरअसल यह मंदिर प्रथ्वी के नाभि पर स्थित है और स्वयंभू है। दक्षिणमुखी होने के कारण यह पूरी दुनिया में तंत्र-मंत्र की सिद्धि के लिए विख्यात है। यहां प्रतिदिन बाबा महाकाल (Baba Mahakal) के दर्शनों को हजारों श्रद्धालु आते हैं।

विडियो में दिखे बाबा बर्फानी

किसी पर्व या त्यौहार के दिनों में तो यहां भक्तों का तांता लगा रहता है। वर्ष में एक भी दिन ऐसा नहीं जाता जब भक्तों की भीड़ यहां दिखाई न देती हो। बाबा महाकाल (Baba Mahakal) के दर्शन के लिए रोजाना भक्तों की लंबी-लंबी कतार लगती हैं। बाबा महाकाल (Baba Mahakal) के दर्शन करने आए ऐसे ही किसी भक्त ने जब विडियो बनाया तो उस विडियो में ऐसी आकृति दिखाई दी, जिसे देख सभी हैरान रह गए।

सच्चाई कुछ और

इस विडियो में एक सफ़ेद रंग की आकृति नज़र आ रही है। जब यह विडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया गया तो कई लोगों ने इसे बाबा बर्फानी का रूप बताया। हालांकि विडियो में जो सफ़ेद आकृति नज़र आ रही है वह सच में बाबा बर्फानी (Baba Barfani) की आकृति लग रही है। यह विडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल (Mahakal Temple Viral Video) हो रहा है। लेकिन जिसे लोग बाबा वर्फानी बता रहे हैं और विडियो को चमत्कारी बता रहे हैं, उसकी सच्चाई कुछ और ही है।

लाईट का रिफ्लेक्शन

इस विडियो के विषय में जब महाकाल मंदिर के प्रशासन से बात की गई तो उन्होंने इसकी सच्चाई बताई। मंदिर के सहायक प्रशासनिक अधिकारी एसपी दीक्षित (SP Dixit) ने कहा कि यह कोई आकृति नहीं है बल्कि लाईट का रिफ्लेक्शन है। एसपी दीक्षित की बात पूरी तरह से सच है। साइंस के अनुसार जब भी किसी कैमरे को लाईट के सामने चलाया जाता है तो लाइट का आकार बढ़ता हुआ दिखाई देता है। कैमरे की स्थिति बदलने पर आकृति में भी परिवर्तन होता है। इस विडियो में भी यही हुआ।

मंदिर प्रशासन की खुली पोल

दीक्षित का कहना है कि जब किसी भक्त ने गर्भगृह के सामने से नंदी हॉल का विडियो बनाया तब सामने ऊपर बनी गैलरी पर एक बड़ा लैंप जल रहा था। इसी बड़े लैंप का रिफ्लेक्शन कैमरे में दिखाई दिया। जिसे लोग बाबा बर्फानी का स्वरुप बता रहे हैं। यह विडियो मंगलवार का बताया जा रहा है। अब जब यह विडियो वायरल (Mahakal Temple Viral Video) हुआ तो विडियो की सच्चाई के साथ ही मंदिर प्रशासन और जिम्मेदार अधिकारियों की पोल भी खुल गई।

मोबाइल और कैमरा प्रतिबंधित

दरअसल इस विडियो से मंदिर प्रशासन की लापरवाही उजागर हो गई है। बाबा महाकाल (Baba Mahakal) के मंदिर प्रांगण में सेल फ़ोन (Mobile Phone) या फिर कैमरा ले जाने पर मनाही है। मतलब इन्हें ले जाने पर यहां पाबंदी लगाई गई है। मोबाइल (Mobile Phone) और कैमरा ले जाने पर पाबंदी के कई सूचना बोर्ड भी कई स्थान पर लगाए गए हैं। बावजूद इसके लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आते। हालांकि कई स्थानों पर यहां आने वाले भक्तों की जांच भी की जाती है। लेकिन फिर भी लोग मोबाइल या फिर कैमरा लेकर अन्दर दाखिल हो जाते हैं और विडियो बनाते हैं। अब एक सवालिया निशान मंदिर प्रशासन पर भी लग गया है कि आखिर इतनी व्यवस्थाओं के बाद भी मोबाइल मंदिर परिसर में कैसे पहुंचा?

देखें विडियो :

ताजा जानकारी पाने के लिए जुड़े रहिये BNR News के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *